Thu. Apr 18th, 2019

मरणासन्न चुनाव आयोग और राष्ट्रपति भवन

नदीम अख्तर
इस देश में चुनाव आयोग और राष्ट्रपति भवन ज़िंदा है ना??!! #NamoTv अभी भी चल रहा है और राज्यपाल रहते हुए मोदी जी को वोट देने की अपील करने वाले कल्याण सिंह को अभी तक राज्यपाल ने पद से नहीं हटाया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को देश को ये बताना चाहिए कि बतौर राज्यपाल कल्याण सिंह राज्य में राष्ट्रपति के एजेंट हैं या बीजेपी के??!! और मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को ये बताना चाहिए कि #राफेल पे लिखी किताब वो जारी नहीं होने दे सकते तो बिना लाइसेंस के ये #नमोटीवी क्यों और कैसे चल रहा है। 24 घण्टे हो रहे इस चुनाव प्रचार से अचार संहिता का उल्लंघन नहीं हो रहा??

ज़ाहिर है बीजेपी और मोदी जी की बल्ले-बल्ले है क्योंकि दोनों सांवैधानिक संस्थाएं उनके फेवर में काम कर रही हैं। पर इस # कांग्रेस को क्या हो गया है? क्यों नहीं राहुल गांधी इन दोनों मामलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट जाते हैं? राष्ट्रपति कोविंद और #CEC अरोड़ा को कुछ शर्मिंदगी तो हो!! जब #चौकीदारचोरहै जैसे राहुल के बयान पे बीजेपी की मीनाक्षी लेखी तुरन्त सुप्रीम कोर्ट जा सकती हैं और आश्चर्यजनक रूप से कोर्ट मामले को सुनने के लिए तैयार हो जाता है (जज साहब की काबलियत और ज्ञान आप लोग जानें), सोमवार यानी कल सुनवाई भी हो जाएगी तब राज्यपाल/राष्ट्रपति और चुनाव आयोग की बेशर्मी और अपना उत्तरदायित्व ना निभाने की घटना के चलते राहुल उनको सुप्रीम कोर्ट में क्यों नहीं घसीटते??!! राहुल को किस चीज़ का डर है??!!

इसीलिए मैं कहता हूँ कि ये #Pseudo #Election है और राहुल गांधी हारने के लिए लड़ रहे हैं। आप देखिए, अमेठी में घुसकर राहुल गांधी को बीजेपी और स्मृति ईरानी ने चांप दिया लेकिन मोदी जी और अमित शाह आराम से बनारस और गांधीनगर से चुनाव लड़ रहे हैं। अभी तक कांग्रेस या एकजुट विपक्ष ने उनको टक्कर देने की जहमत भी नहीं उठाई। सोचिए, जब बीजेपी और कांग्रेस में इतना भी आपसी भाईचारा नहीं रहा और बीजेपी राहुल को हराने के लिए अपने सीएम योगी आदित्यनाथ तक को अमेठी में उतार देती है तो बनारस से मोदी जी और गांधीनगर से अमित शाह निर्विघ्न चुनाव कैसे लड़ रहे हैं?? राहुल को तो मोदी जी को बनारस में नाप देना चाहिए था! कल प्रियंका गांधी के बनारस से चुनाव लड़ने की खबरें उड़ीं और फिर ज़मीन पे बैठ गईं। इतनी अनिर्णय की स्थिति!! राहुल को क्या डर है??!!

अगर ऐसे ही चला तो राहुल के लिए आगे बहुत दिक्कत है। राजनीति क्या, जीवन में भी जो आदमी आपको नुकसान पहुंचाने की कोशिश करे, उसकी जड़ काट देनी चाहिए। फिलहाल तो इस देश में मरणासन्न पड़े चुनाव आयोग और राष्ट्रपति भवन पर आंसू बहाइये। जब अर्थी निकलेगी तो मुझे भी बता दीजिएगा, कांधा देने मैं भी आ जाऊंगा।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *